khargosh Aur kachhua ki Kahani – Kachua Ki Jeet Kese Hui ?

khargosh Aur kachhua ki kahani बोहोत मजेदार है और इस कहानी से हमे बोहोत कुछ सीखने की जरुरत है | हमे कभी हार नहीं माननी चाहिये और किसी को कमजोर नहीं समझना चाहिये | तो चलिए आर्टिकल को सुरु करते है |

khargosh Aur kachhua ki kahani

khargosh Aur kachhua ki kahani

जंगल में 2 दोस्त रहते थे खरगोश और कछुआ | खरगोश को अपने ऊपर बोहोत घमंड था क्युकी वो बोहोत तेज भागता था | वही कछुआ बोहोत धीरे चलता था |

खरगोश कछुआ का मजाक उड़ाता था और उसने कछुए से कहा क्या तुम मेरे साथ रेस लगाओगे | कछुए ने रेस लगाने के लिए हा करदी |

जंगल में सारे जानवर कछुए और खरगोश की रेस देखने के लिए जमा हो गए | जब रेस सुरु हुई तो खरगोश बोहोत तेजी से भागने लगा वही कछुआ बोहोत धीरे धीरे चल रहा था |

खरगोश कछुए से बोहोत आगे निकल गया था | यही कारण था | उसने जब पीछे देखा तो वहा कछुआ नहीं था |

उसने सोचा कछुआ तो वैसे भी बोहोत धीरे से चलता है हमसे जीत नहीं पायेगा | इसलिए क्यों न हम आराम कर ले |

फिर क्या था खरगोश पेड़ के निचे सो गया और कछुआ धीरे धीरे चलकर अपनी मंजिल में पहुंच कर रेस जीत गया |

सब जानवर ने खुश होकर तालिया बजायी खरगोश को अपनी गलती का एहसास होगया क्युकी उसको घमंड था की वो कछुए को हरा देगा |

Other Blog post

Ache sanskar in hindi- अच्छे संस्कार क्या होते हैं

Imaandar lakadhara ki kahani

Darji Aur Hathi Story In Hindi

Chanakya Niti Quotes In Hindi – Chanakya Thoughts In Hind

 

Moral : हमे कभी किसी को कमजोर नहीं समझना चाहिये | और कभी खुद पर घमंड नहीं करना चाहिये क्युकी अगर हम ऐसा करेंगे तो जैसा हाल खरगोश का हुआ उसकी जगह हम होंगे |

khargosh Aur kachhua ki Kahani | kachua aur khargosh ki story | kachua aur khargosh short story in hindi | khargosh aur kachua story

 

 

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Related Post